बालासन बालासन

30 Min activity

Categories


बालासन योग विज्ञान में सबसे आसान लेकिन सबसे प्रभावी आसनों में से एक है। संस्कृत शब्द बालासन का अर्थ है बच्चे जैसी मुद्रा। बाल शब्द का अर्थ है बच्चा, आसन का अर्थ है मुद्रा।
इसलिए इस मुद्रा को चाइल्ड पोज कहा जाता है। आसन को इसकी मुद्रा के कारण नाम दिया गया था। इस बैठे हुए व्यक्ति को बच्चे की तरह बैठाया जाता है। ऐसा लगता है जैसे कोई बच्चा गर्भ में आराम कर रहा हो। इसलिए इस मुद्रा को बाल मुद्रा कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि गर्भ में बच्चा सबसे स्वस्थ होता है। इसलिए स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखने के लिए योगी इस मुद्रा का अभ्यास करते हैं।
इस मुद्रा का अभ्यास आपकी क्षमता के आधार पर कम से कम 15 मिनट से 30 मिनट तक किया जा सकता है। इस मुद्रा को किसी भी पुनरावृत्ति की आवश्यकता नहीं है। आप इस आसन को एक बार कर सकते हैं और जब तक चाहें उसी स्थिति में रह सकते हैं। यह एक ऐसी आरामदेह मुद्रा है जिसका अभ्यास किसी भी आयु वर्ग का कोई भी व्यक्ति कर सकता है। यह अभ्यास करने के लिए एक आसान मुद्रा है। यह आपकी जांघों को टोन करने और पीठ दर्द से राहत दिलाने में आपकी मदद करेगा।
इस मुद्रा का अभ्यास तब करना चाहिए जब आप तेजी से सांस ले रहे हों और आराम करना चाहते हों। इस आसन का अभ्यास योग से पहले या बाद में किया जा सकता है। यदि आप आराम करना चाहते हैं तो अभ्यास करने के लिए यह एक बेहतरीन मुद्रा है। बालासन व्यक्ति को गहन विश्राम प्रदान करता है। इस आसन का अभ्यास करने से आपके मन में सकारात्मक भावनाओं का संचार होता है। इसके अलावा यह मन के किसी गहरे कोने में पड़े नकारात्मक विचारों को नष्ट करने में भी मदद करता है। यह एक आराम देने वाली मुद्रा है जो जांघों पर केंद्रित होती है और पीठ दर्द से राहत दिलाने में मदद करती है। यह शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक शांति की गहरी अनुभूति भी प्रदान करता है। यह मुद्रा भोजन के कम से कम चार से छह घंटे बाद करनी चाहिए। जब आप इस स्थिति का अभ्यास करते हैं तो आपकी आंत और पेट खाली होना चाहिए।