उष्ट्रासन उष्ट्रासन

30 Min activity

Categories


लोगों के बीच काफी प्रतिस्पर्धा है। सफलता प्राप्त किए बिना जीवित रहना बहुत कठिन है। मेहनत करना और मेहनत करना ही सफलता का मंत्र है। आइए यूपीएससी आकांक्षी का एक सरल उदाहरण लेते हैं। सिविल सेवाओं में प्रतिस्पर्धा अपने चरम पर है और रिक्तियों की संख्या 1000 से कम है। इसलिए, एक उम्मीदवार को कड़ी मेहनत करने और सब कुछ पूर्व-योजना बनाने की आवश्यकता है। उन्हें अपनी पढ़ाई के लिए कम से कम 10 से 12 घंटे तो देने ही चाहिए। लेकिन उसके लिए इतनी देर तक इस स्थिति में बैठना स्वास्थ्य संबंधी कई और समस्याएं पैदा कर सकता है। इसलिए अपने दिमाग और शरीर दोनों को स्वस्थ और तरोताजा रखना बहुत जरूरी है।
इन सब से बचने के लिए आपको रोजाना योगाभ्यास करना चाहिए। योग आपको परेशान करने और तनाव मुक्त करने में मदद करेगा। योग का अभ्यास और स्वस्थ जीवन शैली का पालन करने से आपको अपनी सफलता प्राप्त करने में मदद मिलेगी। स्वस्थ तन और मन से सफलता की संभावना बढ़ जाती है।
एक ऐसा जो किसी व्यक्ति के दिमाग और शरीर को तरोताजा करने के लिए फायदेमंद हो सकता है, वह है उष्ट्रासन। उष्ट्रासन एक साधारण बैठने की मुद्रा है जिसमें आपके घुटने, टखने, पीठ, रीढ़ और हाथ शामिल होते हैं। आप एक सरल आसन का अभ्यास करके यह सब मजबूत कर सकते हैं। एक बार जब आप इस मुद्रा को करने का तरीका जान जाते हैं, तो आप इसके आदी हो जाएंगे। यह पोज आपके लिए लाइफ चेंजर साबित हो सकता है। इस सरल मुद्रा में बहुत सारे छिपे हुए लाभ शामिल हैं।
उष्ट्रासन एक संस्कृत शब्द है, जहां उष्ट्र का अर्थ है ऊंट, आसन का अर्थ है मुद्रा।
इसलिए, इस मुद्रा को अंग्रेजी में ऊंट मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है। यह मुद्रा आपकी पीठ, गर्दन, रीढ़, टखने और घुटने को मजबूत करेगी। यह मुद्रा आपकी छाती को फैलाती है। यह कूल्हों और हिप फ्लेक्सर को खोलता है। यह मुद्रा ऑक्सीजन ले जाने वाले रक्त को बढ़ाएगी। ऑक्सीजन ले जाने वाला रक्त आपके दिमाग को तरोताजा कर देगा और कायाकल्प करने में मदद करेगा। आपके कोर को टोन करने के लिए कैमल पोज़ फायदेमंद हो सकता है। अगर सही तरीके से किया जाए तो इस मुद्रा से वजन कम हो सकता है। इसलिए, स्वस्थ तन और मन के लिए यह सरल मुद्रा पर्याप्त है।