भद्रासन: भद्रासन:

30 Min activity

Categories


भद्रा आसन को ग्रेसियस पोज भी कहा जाता है। इसका नाम संस्कृत भाषा से लिया गया था। अंग्रेजी में भद्र का अर्थ है कृपालु, आसन का अर्थ है मुद्रा या मुद्रा।
इसलिए भद्रासन को कृपा मुद्रा माना जाता है।
 यह मुद्रा आपके मूलाधार चक्र को सक्रिय करने के लिए बहुत अच्छी है। मूलाधार चक्र सभी 7 चक्रों में से सबसे आवश्यक चक्रों में से एक है। मूलाधार चक्र गुदा द्वार और जननांगों के बीच मौजूद होता है। मूला- धरा का अर्थ है नींव। एक स्थिर नींव रखना बहुत महत्वपूर्ण है। यह पोज़ सबसे अंडररेटेड पोज़ में से एक है। व्यक्ति इस मुद्रा का अभ्यास करने से बचते हैं क्योंकि वे इसे अपने लिए कम से कम फायदेमंद मानते हैं।
भद्रासन वज्रासन के समान स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। इस मुद्रा का उल्लेख हठ योग प्रदीपिका और घेरंडा संहिता में भी किया गया है। हठयोग प्रदीपिका में इस मुद्रा को रोगों का नाश करने वाला माना गया है। यह पुस्तक के चार आसनों में से एक है। इस मुद्रा के कई छिपे हुए लाभ हैं। यह मुद्रा एक योगी को थकान से छुटकारा पाने में मदद कर सकती है। भद्रा आसन शुरुआती लोगों के लिए उपयुक्त है। इस मुद्रा का अभ्यास करने से आपका मन शांत होगा और जमीन से जुड़े होने का अहसास होगा। जो व्यक्ति घुटने की चोट घुटने की सर्जरी या किसी अन्य घुटने से संबंधित समस्याओं से पीड़ित है, उसे इस मुद्रा का अभ्यास करने से बचना चाहिए।
यह आसन आपको बेहतर ध्यान करने में मदद करेगा। यह आपके कूल्हों, जांघों और रीढ़ को मजबूत करेगा। यह मुद्रा आपके कूल्हों, जांघों और रीढ़ को एक अच्छा खिंचाव प्रदान करेगी।