गेट पोज गेट पोज (परीघासन)

30 Min activity

Categories


यह मुद्रा हमारे शरीर के उन हिस्सों के माध्यम से रक्त के प्रवाह के लिए प्रवेश द्वार प्रदान करती है जो हमारे शरीर की निष्क्रियता के कारण बाधित हो गए थे। परिघासन को गेट पोज कहा जाता है क्योंकि यह रक्त प्रवाह का द्वार है।
संस्कृत में, परिघ का अर्थ है 'द्वार को बंद करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली पट्टी', आसन का अर्थ है 'मुद्रा'।
इस मुद्रा का अभ्यास करते हुए हम अपने शरीर की स्ट्रेचिंग करते हैं। यह मुद्रा हमें पक्षों को एक अच्छा खिंचाव देती है। यह आंतरिक जांघों, पैरों, कूल्हों और कोर की मांसपेशियों को एक अच्छा खिंचाव देता है। प्रघसन को 20वीं शताब्दी से पहले भी जाना जाता था। आधुनिक योग के जनक कृष्णमाचार्य ने इस मुद्रा को जिम्नास्टिक से प्राप्त किया था। यह साइड बेंडिंग पोज़ गहरी सांस लेने के लिए बहुत अच्छा है। अस्थमा या सांस लेने में किसी अन्य समस्या से पीड़ित व्यक्ति के लिए यह एक बेहतरीन व्यायाम है। सूर्य नमस्कार अभ्यास से पहले यह एक बेहतरीन वार्म-अप है। इसे 15-20 मिनट तक अकेले किया जा सकता है। यह आपके शरीर को स्ट्रेच करेगा और साइड फैट को कम करने में मदद करेगा। आप अपनी मांसपेशियों को टोन करने के लिए इस मुद्रा का उपयोग कर सकते हैं। इस आसन को कोई भी आयु वर्ग कर सकता है। चोट लगने की संभावना बहुत कम होती है। यह योग में सबसे अंडररेटेड पोज़ में से एक है।
इस आसन को करने से पहले आप अर्धचंद्र को घुटना टेककर बाल मुद्रा कर सकते हैं। यह किसी भी तरह की चोट से बच जाएगा। आप इस मुद्रा को समाप्त करने के लिए गेट साइड प्लैंक या एक अच्छी स्ट्रेचिंग द्वारा फॉलो अप कर सकते हैं। गेट पोज़ एक स्फूर्तिदायक मुद्रा है जो आपके शरीर के किनारों को एक अच्छा खिंचाव प्रदान करती है और आपकी रीढ़ के लचीलेपन को बढ़ाती है। आप इस मुद्रा का उपयोग अपने पेट की मांसपेशियों को टोन करने और अपने परिसंचरण में सुधार करने के लिए भी कर सकते हैं। त्रिभुज मुद्रा की तैयारी में प्रदर्शन करने के लिए गेट पोज़ एक उत्कृष्ट मुद्रा है। जबकि दोनों पोज़ समान मांसपेशियों को फैलाते हैं, गेट पोज़ में आपके पैरों के पिछले हिस्से में तीव्र खिंचाव की आवश्यकता नहीं होती है।
गेट पोज़ करने से आपकी पसलियों को जोड़ने वाली मांसपेशियों में खिंचाव आता है, जिससे आपके फेफड़ों का विस्तार होता है और गहरी सांस लेने की आपकी क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलती है। नतीजतन, इस मुद्रा का अभ्यास विशेष रूप से उपयोगी है यदि आपको सांस लेने में समस्या है, जैसे कि अस्थमा।