मंडुकासन मंडुकासन

30 Min activity

Categories


अभ्यासी द्वारा की गई मुद्रा मेंढक की तरह दिखती है। इसलिए, मुद्रा को मंडुकासन कहा जाता है। मंडुकासन एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है मेंढक मुद्रा मंडुक का अर्थ है मेंढक, आसन का अर्थ है मुद्रा।
इसलिए, हम इसे मेंढक मुद्रा भी कहते हैं। मंडुकासन मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए एक आदर्श आसन है। यह उन आसनों में से एक है जो आपके पेट की मालिश करते हैं और अत्यधिक चर्बी को जलाते हैं। मंडुकासन न केवल आपके पेट पर ध्यान केंद्रित करता है बल्कि आपके पेट, रीढ़, नितंब, जांघों और पैरों के क्षेत्र पर भी काम करता है।
सबसे अधिक लाभ पाने के लिए कोई भी आयु वर्ग इस मुद्रा को सुबह या शाम खाली पेट कर सकता है। मंडुकासन एक बैठे हुए आसन है जो पेट के क्षेत्रों, जांघों, मांसपेशियों को टोन करेगा, पाचन को बढ़ाएगा, घुटने के जोड़ों को चिकनाई देगा। यह एक सरल लेकिन प्रभावी मुद्रा है जिसका अभ्यास शुरुआती चिकित्सकों द्वारा किया जा सकता है। आसन में झुकने से आपके शरीर और आत्मा को आराम मिलता है।
मंडुकासन मुद्रा हमारे पेट को मजबूत करने में हमारी मदद करेगी। यह अभ्यासी को ऊर्जा के अपव्यय को बाहरी दुनिया से भीतर स्थानांतरित करने में बदलने की अनुमति देता है। यह मुद्रा आपकी पीठ, घुटनों, कूल्हों और टखनों को मजबूत करेगी। यह मुद्रा आपको तनाव और चिंता को दूर करने में मदद करेगी। यह आपके शरीर में ऑक्सीजन ले जाने वाले रक्त प्रवाह को बढ़ाता है। हम इस मुद्रा का अभ्यास करके मासिक धर्म में ऐंठन और अनियमित मासिक धर्म चक्र से छुटकारा पा सकते हैं। यह मुद्रा कुंडलिनी जागरण के लिए जानी जाती है।