मेरुवक्रासन मेरुवक्रासन

30 Min activity

Categories


मेरुवक्रासन एक सरल मोड़ मुद्रा है। मेरुवक्रासन शब्द संस्कृत से लिया गया है। मेरु का अर्थ है पर्वत, वक्र का अर्थ है मोड़, आसन का अर्थ है मुद्रा।
इसलिए, मेरुवक्रासन को पर्वतीय मोड़ मुद्रा के रूप में परिभाषित किया गया है। यहां पहाड़ हमारी रीढ़ है। सरल मोड़ मुद्रा आपकी रीढ़ और पेट को मजबूत करेगी। आपकी रीढ़ आपके शरीर की आत्मा है। अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए रीढ़ की हड्डी का स्वस्थ होना बहुत जरूरी है। रीढ़ की हड्डी हमारे दैनिक जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसलिए रीढ़ की हड्डी का स्वस्थ होना बहुत जरूरी हो जाता है। हालांकि विभिन्न आसनों में हमारी रीढ़ शामिल होती है और इस प्रकार समग्र स्वास्थ्य में वृद्धि होती है, लेकिन मेरुवक्रासन या साधारण रीढ़ की हड्डी पूरी तरह से हमारी रीढ़ के स्वास्थ्य पर केंद्रित होती है। एक साधारण स्पाइनल ट्विस्ट शुरुआती लोगों के लिए एक आसन है। मेरुवक्रासन आपकी रीढ़ में पैदा हुए अनावश्यक तनाव से छुटकारा पाने में आपकी मदद करेगा। आजकल रीढ़ की हड्डी की समस्या सबसे आम है। तनाव, ऐंठन, रीढ़ की हड्डी में दर्द वयस्कों और बड़ों में आसानी से देखा जा सकता है। यह समस्या आम है और जीवन के लिए खतरा नहीं है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको हमेशा इस स्थिति के साथ रहना होगा। आप खाली पेट रोजाना 5 से 10 मिनट मेरुवक्रासन का अभ्यास करके ऐसी समस्याओं को ठीक कर सकते हैं। योग हमारे पूरे तरोताजा और तनाव मुक्त रखता है। मेरुवक्रासन के बहुत सारे छिपे हुए स्वास्थ्य लाभ हैं। यह हमें हल्का, तनावमुक्त, मुक्त, जमीन से जुड़ा और शांत महसूस कराएगा। यह इतनी सरल मुद्रा है और इसलिए, हर आयु वर्ग द्वारा इसका अभ्यास किया जा सकता है।

Copyright © 2022 yogpath Wellness private Limited. All Rights Reserved

Free website hits