परिव्रत त्रिकोणासन परिव्रत त्रिकोणासन

30 Min activity

Categories


परिव्रत त्रिकोणासन को त्रिभुज मुद्रा भी कहा जाता है। परिव्रत त्रिकोणासन नाम संस्कृत से लिया गया है। यहाँ परिव्रत का अर्थ है परिक्रमण, त्रिकोण का अर्थ त्रिभुज, आसन का अर्थ है मुद्रा।
तो, परिव्रत त्रिकोणासन का अर्थ है त्रिभुज मुद्रा। जब हम इस मुद्रा का अभ्यास करते हैं, तो हम एक त्रिभुज की तरह मुद्रा बनाते हैं। परिव्रत त्रिकोणासन एक आधारभूत मुद्रा है जो आर्मस्ट्रांग को मजबूत और लंबा करती है। यह मुद्रा आपके लचीलेपन को बढ़ाएगी। यह खड़ी मुद्रा है। यह मुद्रा आपको गहरी खिंचाव देगी। इस मुद्रा में स्ट्रेचिंग का फोकस जांघों, गर्दन, बाहों और बगल की कमर पर होता है। यह मुद्रा लचीलेपन को बढ़ाएगी। यह आपके शरीर में संतुलन को बढ़ाएगा। यह मुद्रा आप में ताकत बढ़ाने के लिए बहुत अच्छी है। यह आसन आपको अपनी छाती और बाहों में मांसपेशियों को फैलाने में मदद करता है। परिव्रत त्रिकोणासन आमतौर पर एक वार्म-अप व्यायाम है। इस मुद्रा का अभ्यास करने से तनाव कम होगा। यह आपकी छाती और कूल्हों को खोलता है। आपके शरीर में गतिशीलता में सुधार करने के लिए अभ्यास करने के लिए यह एक बेहतरीन मुद्रा है। यह मुद्रा आपके चयापचय को बढ़ाएगी। व्यायाम से पहले इस मुद्रा का अभ्यास करने से किसी भी तरह की शारीरिक चोट का खतरा कम हो जाएगा। यह आपको अपने टखने, गर्दन, घुटने, हाथ और कंधे में किसी और चोट से बचाएगा। यह मुद्रा योग का सबसे महत्वपूर्ण घटक है। यह हमें अन्य योगों का अभ्यास बड़ी आसानी से करने में मदद करेगा।
यह मुद्रा हमें सिखाएगी कि पैरों को कैसे बढ़ाया जाए जो बाद में हमें कई अन्य पोज में मदद करेगा। यह मुद्रा आपके लव हैंडल को कम करने में आपकी मदद करेगी। यह आपकी साइड की कमर से अतिरिक्त चर्बी को खत्म कर देगा। आप द्विकोणासन और अधो मुख शवासन जैसे कुछ प्रारंभिक आसनों का भी अभ्यास कर सकते हैं। यह मुद्रा एक बग़ल में झुकने वाली मुद्रा है इसलिए; अपनी पीठ झुकने से बचना चाहिए।