कपालभाति कपालभाति

Categories


कपालभाति शब्द का अपने आप में बहुत अलग अर्थ है। कपाल शब्द का अर्थ खोपड़ी है, भाटी का अर्थ है चमकना।
इसलिए, कपालभाति एक खोपड़ी चमकने वाली श्वास तकनीक है। कपालभाती एक सांस लेने की तकनीक है जो आपके शरीर को विषाक्त पदार्थों को छोड़ने में मदद करती है। कपालभाति बैठी हुई योग मुद्रा है लेकिन एक व्यक्ति कुर्सी पर बैठकर इस आसन का अभ्यास कर सकता है। यह मुद्रा आपको थका देने वाले दिन के बाद अपनी ऊर्जा वापस पाने में मदद करेगी। कपालभाती एक सांस लेने की तकनीक है जो आपके शरीर को लगभग पूरी तरह से संतुलित करने में मदद करेगी। यह हमारे शरीर और श्वसन तंत्र को शुद्ध करता है।
इस मुद्रा का अभ्यास करने के बाद यह देखा गया कि अभ्यासी का माथा चमकने लगा और ललाट मस्तिष्क की कार्यक्षमता में वृद्धि हुई। यह आपके शरीर में शरीर के तापमान को बनाए रखेगा। आपके शरीर से अत्यधिक गर्मी निकल जाती है। यह सफाई तकनीक का एक रूप है जो आपके शरीर से अतिरिक्त विषाक्त पदार्थों को निकालता है और शरीर को साफ करने में मदद करता है। कपालभाति का अभ्यास आपके शरीर, मन और आत्मा के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ाता है। हमारे शरीर में तेजी से साँस छोड़ने और साँस लेने की प्रक्रिया शरीर में बहुत सारी आंतरिक गर्मी पैदा करेगी। इसलिए उत्पन्न गर्मी हमारे शरीर को गर्म करती है और तापमान को संतुलित करती है। गर्मी हमारे आंतरिक अंगों के समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करेगी। यह मुद्रा मस्तिष्क की मालिश और विस्तार करती है और तनाव और चिंता को कम करती है। यह मुद्रा आपके गुस्से को नियंत्रित करने में फायदेमंद हो सकती है। साँस लेने की तकनीक आपकी छाती और फेफड़ों को खोल देगी और आपके फेफड़ों के स्वास्थ्य में सुधार करेगी।
कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास आप दिन में दो बार कर सकते हैं। आपका पेट दोनों बार खाली होना चाहिए।

Copyright © 2022 yogpath Wellness private Limited. All Rights Reserved

Free website hits